महापौर ने आदर्श भंडारा के आयोजकों का सम्मान किया

महापौर श्रीमती संयुक्ता भाटिया ने विनय खंड 4 में डॉ मयंक कान्त और टीम के द्वारा प्रथम मंगल के अवसर पर लगाए गए भंडारे में दिए गए सामाजिक संदेशों और स्वच्छता के कारण आयोजकों की जम कर तारीफ की और आग्रह किया कि मंगलमान अभियान ज़े जुड़ कर इसे सफल बनाने में मदद करे। भंडारे का आयोजन डॉ मयंक कान्त एवं उनकी टीम ने किया था। इस अवसर पर इस टीम के पूनम वर्मा, उत्तम Read More

प्रथम बड़े मंगल पर कार्य की हुई समीक्षा

पहले बड़े मंगल पर मंगलमान समिति के कार्यकर्ताओं ने जो जन जागरण का कार्य किया उसे चारो तरफ से प्राप्त हो रहे जन समर्थन से उत्साहित होकर कार्यकर्ताओ ने दूसरे मंगल पर और बेहतर योजना के साथ जागरण का संकल्प लिया। डॉ हरमेश जी चौहान की अध्यक्षता में हुई इस बैठक में कार्यकर्ताओं ने अपने अपने अनुभव शेयर किया। तय हुआ की इन अनुभवों को एक एक कर मंगलमान पोर्टल पर डाला जाएगा। समाज को Read More

पहले बड़े मंगल की प्रेस विज्ञप्ति

प्रेस विज्ञप्ति- दिनांक 21.05.2019 बड़े मंगल पर मंगलमान टीम का जनजागरण बड़े मंगल के भंडारों पर जाकर आज मंगलमान समिति के स्वयंसेवकों ने जन जागरण करते हुए स्वच्छता और पर्यावरण के मुद्दे को भंडारा आयोजकों और भक्तों के मध्य पहुंचाया। ज्ञातव्य है कि कल लखनऊ के महापौर श्रीमती संयुक्ता भाटिया ने मंगलमान डॉट इन वेबसाइट का लोकार्पण किया था जिसके माध्यम से भंडारा आयोजकों को अपना विवरण देने को कहा गया था। जिन भंडारा आयोजकों Read More

राष्ट्रीय एकता मिशन बना मंगलमान अभियान का हिस्सा

राष्ट्रीय एकता मिशन मानना है कि राष्ट्र की उन्नति के लिए सभी को निहित स्वार्थो को छोड़ जाति – भाषा -धर्म से ऊपर उठकर राष्ट्र देवो भवः की भावना से कार्य करना चाहिए। मिशन अपने अनेक कार्यक्रमों के माध्यम से इसी भाव का जागरण कर रहा है. मिशन के राष्ट्रीय अध्यक्ष डॉ हरमेश चौहान ने कहा कि मिशन पूरी ताकत इस अभियान में लगाएगा। भूखे को भोजन और प्यासे को पानी पिलाने से बढ़कर कोई Read More

बड़े मंगल पर भंडारा आयोजकों से पालीथीन प्रयोग ना करने की अपील की महापौर ने

मंगलमान अभियान की प्रेस वार्ता में मेयर श्रीमती संयुक्ता भाटिया ने सभी भंडारा एवं प्याऊ आयोजकों से आग्रह किया कि वे पर्यावरण को नुकसान पहुंचाने वाली पॉलिथीन जैसी चीजों का प्रयोग ना करें स्वच्छता में ईश्वर का वास होता है। अतः भंडारे के आसपास के आसपास सफाई का विशेष ध्यान रखें। भक्तजनों को भी दोने, पत्तल, गिलास निर्धारित स्थान पर ही फेकने चाहिए। अच्छा रहेगा कि आयोजन स्थल पर बोरे का प्रयोग किया जाये और Read More

भण्डारा आयोजकों का सम्मान होगा

मंगलमान आयोजन समिति ऐसे सभी जननायको का अभिनन्दन एवं सम्मान करना चाहती है जो मंगल का मानवर्धन कर रहे है. सभी भंडारा आयोजकों को एकसूत्र में पिरोना और धार्मिक आयोजनों को सामाजिक सरोकारों से जोड़ कर परंपरा को सुदृढ़, सशक्त, प्रभावी बनाना है. www.mangalman.in पोर्टल इस आयोजन से जुड़े सभी पहलुओं के लिए एक सुलभ प्लेटफॉर्म की तरह है. कोई भी आयोजक इस पर आकर अपने आयोजन की जानकारी दे सकता है और इस अभियान Read More

मेयर श्रीमती संयुक्त भाटिया ने मंगलमान अभियान को सराहा

श्रीमती संयुक्ता भाटिया मंगलमान अभियान के पोर्टल को लांच करने के अवसर पर सभी भक्तजनों को हार्दिक मंगलकामनाएं देते हुए इस परंपरा को और भी समृद्ध, सशक्त और प्रभावी बनाने के लिए कार्य कर रही मंगलमान आयोजन समिति का विशेष आभार व्यक्त किया। लखनऊ नगर निगम इस समिति के साथ मिलकर बड़े मंगल के आयोजन को सुचारू बनाने के लिए भक्तजनों का आवाहन भी किया। मंगलमान आयोजन समिति ऐसे सभी जननायको का अभिनन्दन एवं सम्मान Read More

मंगलमान अभियान की वेबसाइट लॉन्च

20.05.2019 को लखनऊ की मेयर श्रीमती संयुक्ता भाटिया ने नगर निगम मुख्यालय में लखनऊ की परंपरा बड़े मंगल को ग्लोबल पहचान दिलाने के लिए वेबसाइट लॉन्च किया। मंगलमान आयोजन समिति की यह वेबसाइट बड़े मंगल के अवसर पर भंडारा प्याऊ लगाने वाले लोगों के लिए एक साथ जुड़ने का एक उचित प्लेटफार्म है। श्रीमती संयुक्ता भाटिया ने इस अवसर पर सभी भक्तजनों को हार्दिक मंगलकामनाएं देते हुए इस परंपरा को और भी समृद्ध, सशक्त और Read More

2019 के ज्येष्ठ मंगल रहेंगे विशेष मंगलकारी

ज्योतिषाचार्य बताते हैं कि 19 मई से जेठ शुरू हो रहा है और 21 मई को ज्येष्ठ मास की कृष्ण तृतीया से बड़े मंगल की शुरूआत हो रही है। इस बार कुल ४ बड़े मंगल होंगे। जेठ का पहला बड़ा मंगल 21 मई को पड़ेगा। इसे लेकर मंदिरों में तैयारियां शुरू हो गई हैं। दुनिया रचने वाले को भगवान कहते है और संकट हरने वाले को हुनमान कहते है। राम के अनन्य भक्त हनुमान जी Read More

२०१८ में थे ९ बड़े मंगल

२०१८ में थे ९ बड़े मंगल ज्येष्ठ माह के 2018 में अधिक मास (पुरुषोत्तम मास) होने की वजह से नौ बड़े मंगल थे। इनमें मई में पांच और जून माह में चार बड़े मंगल थे। हर चौथे साल में ऐसा होता है। मई माह – एक मई, आठ मई, 15 मई, 22 मई, 29 मई जून माह – पांच जून, 12 जून, 19 जून, 26 जून