ई-विसर्जन का संकल्प ले प्रत्याशी, मतदाता करेंगे समर्थन

नगर निकाय निर्वाचन 2022/23

अपने प्रदेश मे नगरीय निकाय के चुनाव सन्निकट है। 

सभी सम्मानित भावी प्रत्याशियो को अग्रिम बधाई के साथ विनम्र निवेदन
हम सभी भली भांति अवगत है कि अपना भारत पर्व त्योहार व उत्सवो का देश है।
हम अपनी अपनी आस्था के अनुरूप विभिन्न पर्वो मे भिन्न भिन्न प्रकार के आयोजन करते है

विभिन्न अवसरो पर हम सभी पूजन सामग्री व अस्थाई देव प्रतिमाओं को स्थापित करते है। 
जिनका विधि-विधान से पूजन कर एक अवधि के उपरांत सम्मान पूर्वक विसर्जन करने की आदिकालीन वैज्ञानिक परंपरा है
जिसके आधार पर प्रतिमाओं व पूजन सामग्री का बहते जल मे प्रवाहित करते रहे हैं। 
किन्तु वर्तमान समय मे नदियों मे जलधारा के प्रवाह की कमी व प्रदूषण की विकट समस्या है। 
इन समस्याओ पर विद्वतजनो का मत ही विकल्प के रूप मे अनुकरणीय है

🙏🙏प्रमुख अवसर🙏🙏

💥 विभिन्न पारंपरिक पर्व-त्योहार
💥 बड़े मंगल के भंडारे
💥 गणेश पूजन
💥 नवरात्र महापर्व आदि
उक्त आयोजनो मे विसर्जन योग्य पूजन सामग्री लगभग प्रत्येक परिवारो से निकलती है। जिसका सम्मान पूर्वक विसर्जन के प्रबंधन की आवश्यकता है
👏👏आमजन की यह अभिलाषा है कि नगर निगम इस विसर्जन योग्य सामग्री का सम्मान पूर्वक विसर्जन का दायित्व वहन करे 🙏🙏
सामान्य रूप से अनुभव मे आया है कि लोग इस विसर्जन योग्य सामग्री को सार्वजनिक स्थानो पर यदा कदा रख देते हैं
🤝 यह सभी के लिए चिंताजनक व आस्था के लिए पीड़ादायक भी है 🤝

🙏🙏 अतः सभी भावी प्रत्याशियो से करबद्ध प्रार्थना है कि अपने चुनाव घोषणापत्र (संकल्प पत्र) में यह संकल्प व्यक्त करे कि ~
हम विसर्जन योग्य पूजन सामग्री के सम्मान पूर्वक विसर्जन का दायित्व नगर निगम के माध्यम से संपन्न करायेंगे/करायेंगी और प्रत्येक घर से वर्ष मे दो बार यह कार्य किया जाएगा।

🚩🚩 मंगलमान अभियान
~~
आस्था के सुदृढ़ीकरण एवं पर्यावरण के संरक्षण के दृष्टिगत अनेक समर्पित कार्यकर्त्तागण सनातन संस्कृति के संवर्द्धन हेतु उक्त कार्य मे अपना योगदान दे रहे है। व्यापक जनजागरण कार्यक्रम भी चलाया जा रहा। नगर निगम का भी सहयोग प्राप्त हो रहा है।

हम सभी के विश्वास को भावी प्रत्याशी अपने संकल्प का कवच दें जिससे पर्यावरण, स्वच्छता,पवित्रता, आस्था का संरक्षण हो , “मंगलमान” विचार का संवर्धन हो…

ऐसा संकल्प व्यक्त करने वाले महानुभाव अवश्य प्रभू कृपा व मतदाताओं का आशीर्वाद प्राप्त करने मे सफल होगे।

डॉ धनञ्जय गुप्ता ; डॉ अनन्त प्रकाश श्रीवास्तव (स्वयंसेवक एवं शिक्षाविद)

Leave a Comment